आपका शहर Close

चंडीगढ़
+

होम पंचकूला मोहाली

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर
+

होम गाजियाबाद गुड़गांव नोएडा फरीदाबाद

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश
+

राज्य की खबरें लखनऊ अम्बेडकरनगर अमरोहा अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोरखपुर घाटमपुर चित्रकूट चंदौली जालौन जौनपुर झांसी देवरिया नोएडा प्रतापगढ़ पीलीभीत फतेहपुर फैजाबाद फर्रूखाबाद फीरोजाबाद बदायूं बरेली बलिया बस्ती बुलंदशहर बहराइच बागपत बांदा बाराबंकी बिजनौर भदोही मऊ मथुरा महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मेरठ मैनपुरी मुजफ्फरनगर मुरादाबाद रामपुर रायबरेली लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शाहजहाँपुर शामली सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र संत कबीर नगर संभल हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

उत्तराखंड
+

राज्य की खबरें देहरादून अल्मोड़ा उत्तर काशी ऊधम सिंह नगर ऋषिकेश कोटद्वार चम्पावत चमोली टिहरी नैनीताल पिथौरागढ़ पौड़ी बागेश्वर रुड़की रुद्र प्रयाग हरिद्वार

जम्मू और कश्मीर
+

राज्य की खबरें जम्मू उधमपुर कठुआ पुंछ राजौरी श्रीनगर

दिल्ली
+

राज्य की खबरें नई दिल्ली

पंजाब
+

राज्य की खबरें चंडीगढ़ अमृतसर जालंधर पटियाला पंचकूला मोहाली लुधियाना

हरियाणा
+

राज्य की खबरें चंडीगढ़ अंबाला करनाल कुरुक्षेत्र कैथल गुड़गांव जींद झज्जर/बहादुरगढ़ पलवल पानीपत फतेहाबाद फरीदाबाद भिवानी महेंद्रगढ़/नारनौल यमुना नगर रेवाड़ी रोहतक सिरसा सोनीपत हिसार

हिमाचल प्रदेश
+

राज्य की खबरें शिमला ऊना कांगड़ा कुल्लू चम्बा धर्मशाला बिलासपुर मंडी रामपुर बुशहर सिरमौर सोलन हमीरपुर (हिमाचल प्रदेश)

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

INDIA NEWS National

ऊर्जा से भर देने वाले स्वामी विवेकानंद के 10 अनमोल विचार

टीम डिजिटल/अमर उजाला, नई दिल्ली

Updated Thu, 12 Jan 2017 12:10 PM IST
Swami Vivekananda thaughts 10 quotes

फाइलः स्‍वामी व‌िवेकानंद

स्वामी विवेकानंद वेदांत के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। 21वीं सदी में भी उनके विचारों का युवाओं और आम जन पर खासा प्रभाव है। उनके विचार लोगों की सोच और व्यक्तित्व को बदलने वाले हैं। करोड़ों युवा आज भी विवेकानंद को अपना आदर्श मानते हैं। 
सन् 1893 में अमेरिका के शिकागो में विवेकानंद ने विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया और आध्यात्मिकता से परिपूर्ण भारतीय वेदांत दर्शन को अमेरिका और यूरोप के क्षितिज में फैला दिया।  रामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य शिष्य स्वामी विवेकानंद ने अपने शिकागो भाषण की शुरुआत , 'मेरे अमेरिकी भाइयों एवं बहनों' के साथ की थी। उनके इस संबोधन के प्रथम वाक्य ने दुनिया का दिल जीत लिया। उठो, जागो और तब तक नहीं रुको, जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए।  बस वही जीते हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं।  हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का ध्यान रखिए कि आप क्या सोचते हैं। शब्द गौण हैं। विचार रहते हैं। वे दूर तक यात्रा करते हैं।  
आगे पढ़ें

'जैसा सोचोगे, वैसा हो जाओगे'

कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

जबर ख़बर